ग्राउण्ड रिपोर्टः बूचड़खाने की आड़ में चिकन मटन की दुकानें भी बंद करा रही पुलिस


Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

गाज़ियाबाद। गाज़ियाबाद के शहीद नगर में गाज़ियाबाद पुलिस का एक बड़ा कारनामा आज उस वक्त़ सामने आया जब नेशनल दस्तक की टीम मुस्लिम दुकानदारों के पास जाकर उनके रोजगार से जुड़ी समस्या की पड़ताल कर रही थी। दरअसल जब मुस्लिम समाज के लोग नेशनल दस्तक की टीम से बात कर रहे थे तभी गाज़ियाबाद पुलिस की पीसीआर वहां पहुंची और लोगों पर डंडे बरसाना शुरू कर दिया।

ऐसा लगता है यह पूरा मामला सीधे तौर पर योगी आदित्यनाथ के खौफ से जुड़ा हुआ है। सत्ता में काबिज होने के बाद उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीजेपी के घोषणा पत्र का हवाला देकर सबसे पहली कार्रवाई उत्तरप्रदेश में चल रहे बूचड़खानों पर की जिसके चलते प्रशासन को आदेश दिया गया कि जितने भी अवैध बूचड़खाने प्रदेश में चल रहें हैं उन्हे तत्काल प्रभाव से बन्द कराया जाये।

आदेश पाते ही हरकत में आई यूपी पुलिस नें प्रदेश भर के बूचड़खानों पर तालाबन्दी की कार्रवाई को अंजाम देना शुरू कर दिया। गौरतलब है कि प्रदेश में तकरीबन 285 ऐसे बूचड़खाने हैं जिनके पास केन्द्र सरकार द्वारा जारी प्रमाण पत्र थे। लेकिन मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के आदेश के चलते पुलिस ने सभी बूचड़खानों के साथ-साथ चिकन, मटन, और गोस्त के लघु उद्योग भी बन्द करा दिए। इसी के चलते मुस्लिम समाज में सरकार और प्रशासन के प्रति भारी रोष व्याप्त था।

आपको बता दें की नेशनल दस्तक की टीम बूचड़खानों पर हो रही तालाबन्दी की कार्रवाई को पहले ही दिन से प्रमुखता से दिखा रहा है। नेशनल दस्तक ग्राउण्ड पर जाकर ऐसे तमाम मुस्लिम व्यापारियों से मिल रहा है जिनकी छोटी दुकानों को बूचड़खानों की कार्रवाई से जोड़कर बन्द करा दिया गया है जिससे छोटे मुस्लिम व्यपारियों के लिए रोजगार का एक बड़ा मसला खड़ा हो गया है।

शहीद नगर के मुस्लिम व्यपारियों के आग्रह पर आज जब नेशनल दस्तक की टीम उनकी शिकायत सुनने पहुंची तो इसी दौरान गाज़ियाबाद पुलिस की पीसीआर मौके पर आ गई। पुलिसकर्मीयों ने मीडिया टीम को देखकर यह सोचा की इलाके में चल रहे होटल पुलिस के लिए सरकार से शिकायत की वजह न बन जाए इसलिए पुलिसकर्मीयों ने आला अधिकारियों के आदेश का हवाला देते हुए तमाम होटलों को यह कह कर बंद कराना शुरू कर दिया कि अधिकारियों का आदेश है कि नवरात्र के चलते कोई भी मुस्लिम होटल जिन पर गोस्त के व्यंजनों की बिक्री होती है उन्हें बन्द कर दिया जाए।

जब होटल मालिकों ने पुलिस से सवाल किया कि कार्रवाई तो सिर्फ बूचड़खानों पर होनी थी तो फिर होटलों को क्यों बंद कराया जा रहा है, इस सवाल से भड़के पुलिसकर्मी ने हल्के बल का प्रयोग करते हुए होटल मालिकों पर लाठी भांजनी शूरू कर दी जिससे भीड़ बेकाबू हो गई।

घटना के दौरान पुलिस ने मीडियावालों को वहां से जाने की हिदायत दी। शायद पुलिस को इस बात का डर था कि मीडिया के माध्यम से गोस्त परोसने वाले होटलों की जानकारी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक न पहुंच जाए।


Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

log in

reset password

Back to
log in